एकता धर्मशास्त्र की अनिवार्यता

“पुस्तक "निम्नलिखित अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया गया। अनुवादक Google Talk के माध्यम से हम यह नहीं है कि एक पूर्ण क्षमा अनुवाद हिंदी में मौलिक पुस्तक को अंग्रेजी में”

एकता धर्मशास्त्र की अनिवार्यता

The Essentiality of Oneness Theology

Steven Ritchie

क्या यह चिंता का विषय है कि आप किस प्रकार की इसकापूरा मूल्योंके संवर्धन पढ़े गए BAPTIZED?

बाइबल स्पष्ट रूप से हमें सिखाता है कि केवल एक शाश्वत ईश्वर ने खुद को "ईश्वर पिता' के रूप में परिलक्षित सृष्टिकर्ता के पुत्र के रूप में हमारा शरीर, ईश् वर और ईश् वर के रूप में पवित्र आत्मा के रूप में सीढियां उतरकर की उपस्थिति में और कार्रवाई में संव र्धित हेतुदूरचिकित्सा पद्धति है। यद्यपि, हो सकता है कि महामहिम सम्राट की बहुलता है, स्पष्ट रूप से ईश्वर Yahweh और अनेक कार्यों को करने की क्षमता, बाद में हम यह पाते हैं स ९ वे बाइबल में कहीं भी trinitarian शब्दावली जिसमें ईश्वर को तीन अलग अलग अलग बांटती है और दिव्य व्यक्ति हैं।

यही कारण है कि शब्दावली का प्रयोग कभी बाइबल के बाद trinitarian शताब्दियों के रोमन कैथोलिक चर्च द्वारा विकसित किया गया। बाद में मूल चर्च की स् थापना कर चुका था जी-हजूरी करते फिरते न्यू टेस्टामेंट बाइबल में ९हीं भी हैं तो हमें शब्दों "ईश् वर के पुत्र' या 'पवित्र आत्मा'', "ईश्वर, बल्कि अपने पिता के रूप में प्रयोग करता है.'' क्यों बाइबल कभी trinitarian शब्दावली जैसे "ईश्वर के पुत्र' और 'ईश् वर का कहना है, ''कभी शास्त्र पवित्र आत्मा परमात्मा के पुत्र हैं?'' और ''भगवान के पवित्र आत्मा' है क्योंकि केवल एक ईश् वर, ''पिताजी' (1 की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग 8:6 में साफ कहा गया है कि "यह एक ईश्वर पिता"). यदि ईश् वर' शब्द के स्थान पर 'वॉल्यूंटरी' और 'पुत्र' शब्द के सामने पवित्र आत्मा' यह धारणा यह है कि इसमें तीन छोडने की बजाय एक ही सही, ईश्वर, व्यक्तिगत देवताओं का पिता

यदि trinitarian धर्मशास्त्र नहीं है तो वह ईश् वर के शब्द बोलने की बाईबल क्यों नहीं हैं-पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा है? प्रश्न यह है कि इसका उत्तर में स्पष्ट रूप से पता चलता है कि स् वयं धर्मग्रंथों केवल एक ही नाम का प्रयोग करता है लेकिन वह ईश्वर Yahweh ने अपने कई विभिन्न प्रकार के कार्यों की बहुलता उपाधियों का वर्णन करने के लिए करते हैं. गुण

1. ईश् वर कहा जाता है, क्योंकि वह अपने पिता के सृजक हैं, ''हमने एक नहीं, पिता ने एक ईश्वर का सृजन नहीं कर सकते?''

2. 10:2 Malachi अमेरिका ईश् वर कहा जाता है क्योंकि एक पुत्र अपने पिता के पख्रपातपूर्णरवैये में स्वयं को बचाने के लिए मांस () : "। . . ईश् वर के प्रति न्यायोचित, मांस की भावना है। . 1" "16:3 टिमोथी अंतर्विष् ट, शुद्ध किया जाएगा और बच्चे के साथ एक पुत्र को वहन करेगा और उन्हें उनके नाम का अनुवाद किया जाता है, जो ईश् वर के आह्वान Immanuel हमारे साथ 1:23 में निवास करता है, ''ईसा' रोए सभी शारीरिक रूप में देवता की संपूर्णता।" 2:Colossians 8,9 नहीं थी, बल्कि सभी सेक ईश्वर के एक-तिहाई की संपूर्णता में विस्तार, ईसा के देवता की है। इसलिए दिव्य आत्मा परमात्मा की भावना को ही ईसा के पिता है।

3. ईश् वर के पवित्र आत्मा में उपस्थित हैं, ''संव र्धित उपयोगही कार्यवाहक और ईश् वर की भावना के चेहरे पर उपस्थित रहते हैं।'' की उत्पत्ति 1:2 "ईश् वर की भावना से कार्य किया है।' 'मुझे 33:4 और तत्काल भावना के बीहड़ में उनके" के रूप में चिह्नित 1:12, ''मैं के बीच इसराइल : मु३ो अपने Yahweh ईश्वर और दूसरा नहीं है....। खोजती आ जाएगी और इसे पारित करने के लिए कि मैं अपनी आत्मा को सांसारिक कामनाओं आयी।" जोएल 2:27,28 *सूचना कैसे ईश् वर पिता Yahweh का कहना है कि वे अपनी आत्मा वर्षा से सभी को खासा होता है. बाइबल कभी किसी तीसरे व्यक्ति की आत्मा के पवित्र कॉल्स Yahweh तीन व्यबक्त के भीतर दिव् य देवता है। चूंकि केवल एक दैवी आत्मा का उल्लेख बाइबल Yahweh फिर पवित्र आत्मा को स्पष्ट रूप से ईश्वर पिता की भावना है।

4. इसमें केवल तभी किया जा सकता है- "] [भगवान की भावना से एक YAHWEH एक निकाय है और एक भावना है | . . एक भगवान, एक आस्था, एक baptism; एक ईश् वर और पिता की है, जो सभी के माध्यम से ऊपर है और आप सभी है.''