एकता धर्मशास्त्र की अनिवार्यता

“पुस्तक "निम्नलिखित अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया गया। अनुवादक Google Talk के माध्यम से हम यह नहीं है कि एक पूर्ण क्षमा अनुवाद हिंदी में मौलिक पुस्तक को अंग्रेजी में”

एकता धर्मशास्त्र की अनिवार्यता

The Essentiality of Oneness Theology

Steven Ritchie

क्या यह चिंता का विषय है कि आप किस प्रकार की इसकापूरा मूल्योंके संवर्धन पढ़े गए BAPTIZED?

बाइबल स्पष्ट रूप से हमें सिखाता है कि केवल एक शाश्वत ईश्वर ने खुद को "ईश्वर पिता' के रूप में परिलक्षित सृष्टिकर्ता के पुत्र के रूप में हमारा शरीर, ईश् वर और ईश् वर के रूप में पवित्र आत्मा के रूप में सीढियां उतरकर की उपस्थिति में और कार्रवाई में संव र्धित हेतुदूरचिकित्सा पद्धति है। यद्यपि, हो सकता है कि महामहिम सम्राट की बहुलता है, स्पष्ट रूप से ईश्वर Yahweh और अनेक कार्यों को करने की क्षमता, बाद में हम यह पाते हैं स ९ वे बाइबल में कहीं भी trinitarian शब्दावली जिसमें ईश्वर को तीन अलग अलग अलग बांटती है और दिव्य व्यक्ति हैं।

यही कारण है कि शब्दावली का प्रयोग कभी बाइबल के बाद trinitarian शताब्दियों के रोमन कैथोलिक चर्च द्वारा विकसित किया गया। बाद में मूल चर्च की स् थापना कर चुका था जी-हजूरी करते फिरते न्यू टेस्टामेंट बाइबल में ९हीं भी हैं तो हमें शब्दों "ईश् वर के पुत्र' या 'पवित्र आत्मा'', "ईश्वर, बल्कि अपने पिता के रूप में प्रयोग करता है.'' क्यों बाइबल कभी trinitarian शब्दावली जैसे "ईश्वर के पुत्र' और 'ईश् वर का कहना है, ''कभी शास्त्र पवित्र आत्मा परमात्मा के पुत्र हैं?'' और ''भगवान के पवित्र आत्मा' है क्योंकि केवल एक ईश् वर, ''पिताजी' (1 की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग 8:6 में साफ कहा गया है कि "यह एक ईश्वर पिता"). यदि ईश् वर' शब्द के स्थान पर 'वॉल्यूंटरी' और 'पुत्र' शब्द के सामने पवित्र आत्मा' यह धारणा यह है कि इसमें तीन छोडने की बजाय एक ही सही, ईश्वर, व्यक्तिगत देवताओं का पिता

यदि trinitarian धर्मशास्त्र नहीं है तो वह ईश् वर के शब्द बोलने की बाईबल क्यों नहीं हैं-पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा है? प्रश्न यह है कि इसका उत्तर में स्पष्ट रूप से पता चलता है कि स् वयं धर्मग्रंथों केवल एक ही नाम का प्रयोग करता है लेकिन वह ईश्वर Yahweh ने अपने कई विभिन्न प्रकार के कार्यों की बहुलता उपाधियों का वर्णन करने के लिए करते हैं. गुण

1. ईश् वर कहा जाता है, क्योंकि वह अपने पिता के सृजक हैं, ''हमने एक नहीं, पिता ने एक ईश्वर का सृजन नहीं कर सकते?''

2. 10:2 Malachi अमेरिका ईश् वर कहा जाता है क्योंकि एक पुत्र अपने पिता के पख्रपातपूर्णरवैये में स्वयं को बचाने के लिए मांस () : "। . . ईश् वर के प्रति न्यायोचित, मांस की भावना है। . 1" "16:3 टिमोथी अंतर्विष् ट, शुद्ध किया जाएगा और बच्चे के साथ एक पुत्र को वहन करेगा और उन्हें उनके नाम का अनुवाद किया जाता है, जो ईश् वर के आह्वान Immanuel हमारे साथ 1:23 में निवास करता है, ''ईसा' रोए सभी शारीरिक रूप में देवता की संपूर्णता।" 2:Colossians 8,9 नहीं थी, बल्कि सभी सेक ईश्वर के एक-तिहाई की संपूर्णता में विस्तार, ईसा के देवता की है। इसलिए दिव्य आत्मा परमात्मा की भावना को ही ईसा के पिता है।

3. ईश् वर के पवित्र आत्मा में उपस्थित हैं, ''संव र्धित उपयोगही कार्यवाहक और ईश् वर की भावना के चेहरे पर उपस्थित रहते हैं।'' की उत्पत्ति 1:2 "ईश् वर की भावना से कार्य किया है।' 'मुझे 33:4 और तत्काल भावना के बीहड़ में उनके" के रूप में चिह्नित 1:12, ''मैं के बीच इसराइल : मु३ो अपने Yahweh ईश्वर और दूसरा नहीं है....। खोजती आ जाएगी और इसे पारित करने के लिए कि मैं अपनी आत्मा को सांसारिक कामनाओं आयी।" जोएल 2:27,28 *सूचना कैसे ईश् वर पिता Yahweh का कहना है कि वे अपनी आत्मा वर्षा से सभी को खासा होता है. बाइबल कभी किसी तीसरे व्यक्ति की आत्मा के पवित्र कॉल्स Yahweh तीन व्यबक्त के भीतर दिव् य देवता है। चूंकि केवल एक दैवी आत्मा का उल्लेख बाइबल Yahweh फिर पवित्र आत्मा को स्पष्ट रूप से ईश्वर पिता की भावना है।

4. इसमें केवल तभी किया जा सकता है- "] [भगवान की भावना से एक YAHWEH एक निकाय है और एक भावना है | . . एक भगवान, एक आस्था, एक baptism; एक ईश् वर और पिता की है, जो सभी के माध्यम से ऊपर है और आप सभी है.''

कहते हैं कि ''एक ही बाइबल' की भावना का ईश् वर है। यदि ईश् वर की भावना को केवल एक भावना और फिर ईसा के पिता और पवित्र आत्मा को एक ही दिव्य आत्मा की Yahweh है।

सच्ची भावना उपयोगही एक से अधिक नहीं ईसाई दिव् य हैं। यदि यह सच है तो सभी में ईश्वर पिता संव र्धित पवित्र आत्मा को इसी भावना को ईश् वर के पिता है। प्रत्येक जीव को एक भावना है। पुण् य देवताओं, वहीन देवदूतों तथा प्रत्येक मनुष्य ने सिर्फ एक भावना है। चूंकि इस पुस्तिका के गुस्से में साफ कहा गया है कि मनुष् य और ईश् वर के बाद ही किया गया (देवताओं की छवि आध्यात्मिक उत्पत्ति 1:26,27) और यह स् पष् ट है कि सभी मनुष्यों और देवताओं का केवल एक व्यक्ति, प्रति व्यक्ति की भावना इतनी स् वयं ईश् वर की भावना को एक व्यक्ति के रूप में अवश्य ही एक है। यदि वास्तव में दैवी आत्मा परमात्मा के तीन त्रिमूर्ति था तब से प्रत्येक व्यक्ति को तीन अलग अलग भावना त्रिमूर्ति होगा और लोगों!

यदि एक व्यक्ति, जो दैवी पवित्र आत्मा और पिता भी दूसरे व्यक्ति एक दूसरे दैवी सहास्त्राब्दि के विभिन्न दिव् य व् यक्ति होगा तो तीन दैवी आत् माओं के Yahweh है। मुस्लिमों के पद्य भी नहीं है कि इस बात का खुलासा करने से गुस्से की भावना के एक से अधिक ईश्वर है। को धर्मग्रंथों साफ पता चलता है कि वह ईश्वर के पवित्र आत्मा परमात्मा की भावना है, वही Yahweh पिता और इसी भावना ईसा है।

"लेकिन आप नहीं हैं, लेकिन असल में मांस की भावना है, यदि आप में निवास करता है, ईश् वर की भावना अब यदि किसी के पास नहीं है, वह भी उनके ईसा की भावना है।''9:8 विविसंहिताएं अब भगवान की भावना है और जहां भगवान की भावना है।"

2. 3:17 स्वतंत्रता है, ''ईसा की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग है।'' 12:3 *नोटिस भगवान की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग 1:9 से 8 का प्रयोग करता है, ''की भावना को कैसे विविसंहिताएं" और "ईश् वर की भावना ईसा' शब्द को एक और इसी भावना है! 2. 3:17 स्पष्ट है कि हमारे फैसलों की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग तो ''भगवान की भावना है, तब हम 3:12 की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग 1 में हैं, ''भगवान है।" अत: ईसा ने बताया कि हम देखते हैं कि जब हम सभी के लिए योजनाएंविकसित स्पष्ट है कि ''९ ईसामसीह की भावना के साथ धर्मग्रंथों की भावना है.''

इसीलिए ईसा की भावना के धर्मदूत पीटर रूढि़यों बोलता है जो एक पवित्र उपदेशकों के कर लीजिए कि ईसा के कष्टों और गौरव है: "ईसा की भावना को जो एक कर लीजिए, पैगंबरों के कष्टों को ईसा..." "11:1 पीटर 1 एक निकाय है और एक भावना है | . . एक भगवान, एक आस्था, एक baptism, एक ईश् वर और पिता कौन है, और ऊपर के माध्यम से, आप सभी" "4-6 4:Ephesians, जब वे नीचे आ जाते हैं, तो उनके लिए प्रार्थना की कि उन्हें प्राप्त करने के लिए, अभी तक गिर गया है: (पवित्र आत्मा पर उनमें)" "15,16 8:अधिनियमों को, जिसे परमात्मा की धन-दौलत के नाम से जाना जाता है जो इस रहस्य के गौरव है जो आप के बीच Gentiles; और ईसा की उम्मीद है।'', "27. 1:Colossians हुलसना . . नहीं है, बल्कि यह आप जो बोले।" के रूप में चिह्नित करने के लिए ''11:13 पवित्र आत्मा नहीं है कि आप अपने पिता की बात है, लेकिन की भावना है, तो आप

बाद में 10:20 की घोषणा की है।' रोए राज्यों में उन्होंने अपने शिष्यों को ईसाई भीतर रहते हैं, ''मैं आपको देंगे जो अपने विरोधियों और बुद्धिमता वाग्मिता नहीं कर पाएंगे.'' का खंडन या विरोध ल्यूक 21:14,15 है। रूढि़यों कहते हैं, ''तब की घोषणा। . 'सत् य' की भावना भी . . में होगा। मॅँ आपको अनुमति नहीं होगी।" मॅँ comfortless जॉन 14:18 के ऊपर धर्मग्रंथों की भावना है कि ''पुख्ता सबूत देने" की सच्चाई की भावना है.'' ''पिताजी, जो ''आप की उम्मीद है।' गौरव ईसा में

यद्यपि पवित्र आत्मा है, ईश् वर और ईश् वर के पुत्र' शब्द का प्रयोग कभी बाइबल के बाद किए गए मांस Trinitiarian शब्दावली जिसमें कॉल्स" "ईश्वर की घोषणा के पुत्र और पवित्र आत्मा "ईश्वर के पवित्र आत्मा' की भावना सिखाता है कि ईश्वर का केवल एक स्पष्ट बाइबल की जा रही है और दिव्य आत्मा व्यक्ति अथवा व्यक्तियों या दो या तीन न प्राणियों के साथ अलग-अलग अलग मानस और इच्छाआंॊ है। देवता और ईसा की पवित्र आत्मा हैं कि ईश्वर का सार रूप में दैवी selfsame पिता है। रूढि़यों सिखाता है कि तीनों बाइबल साधनों की ईश्वर आध्यात्मिक सार एक selfsame दिव्य आत्मा है, या व्यक्ति है। ईसा ने कहा, ''मैं और मेरे पिताजी हैं।' 'मुझे देखा है कि / देखा है, ''मैं अपने पिता के पहले अब्राहम''', "सत्य की भावना भी /....। मॅँ आपको अनुमति नहीं है तो आप को 14:18 होगा मैं COMFORTLESS जॉन

यूनानी विद्वान GALATIANS 3:20 राज्यों को स्वीकार किया है कि कोई व्यक्ति है कि ईश्वर शब्द चित्रों के Wuest व्यक्ति की मात्रा के बारे में जानकारी पान क्रमांक 1, 107 यूनानी न्यू टेस्टामेंट, ''अब एक मध्यस्थ नहीं है, बल्कि एक व्यक्ति के हितों का प्रतिनिधित्व करने के बीच जाते है।' एक ईश्वर के अनूसार Brachter Galatians 3:20 निम्नानुसार है:- ''किसी एक व्यक्ति के बीच जाने की आवश्यकता नहीं है, ईश् वर और एक व्यक्ति को अत् यधिक प्रवर्धित हो जाती है.'' भी बाइबिल में लाने का अर्थ यूनानी मूल इस आयत : "अब जाकर intermediator करना और अर्थ है और बीच में एक से अधिक है। सिर्फ एक व्यक्ति के साथ मध्यस्थता नहीं किया जा सकता है।' एक व्यक्ति, ईश् वर

इतने कैसे कर सकते हैं जो राज्य या ईसाई सम्राट गिरजों कॉल हरेक heretics से इनकार करते हैं कि ईश्वर के तीन व्यबक्तयों की भावना है जब बाइबल ही दिव्य त्रिमूर्ति का प्रयोग कभी ऐसी शब्दावली trinitarian? एक दूसरी खोजने का प्रयास व्यर्थ बाइबल की खोज कर सकते है।' कीशब्दावली Trinitarian एक दूसरे दैवी व्यक्ति क्राइसट कॉल्स कभी बाइबल और न ही कभी एक पवित्र आत्मा को कॉल बाइबल तीसरे दैवी व्यक्ति है। एक खोज लेंगे बाइबल व्यर्थ का प्रयत्न करने के बाद trinitarian शब्दकोष जैसे 'त्रिमूर्ति शाश्वत पुत्र, पुत्री को पुत्र के पुत्र और ईश् वर सदा पूर्वजनित पवित्र आत्मा' तो वास्तव में ईश् वर को तीन दैवी लोगों के लिए यह आवश्यक है कि क्यों इस भाषा का प्रयोग करने के लिए Trinitarians unscriptural ऐसी धारणा है?

ईसाई धर्मशास्त्र में विश्वासकरना हड़ताल करने पर जोर देते हैं और बाद के बजाय अपने ग्रंथों का प्रयोग करते हुए परिषदों के रोमन कैथोलिक चर्च का वर्णन करते अनिर्वचनीय प्रकृति के सच्चे ईश्वर है। बाइबल में "ईश्वर का कहना है कि सिर्फ ईसा'', "ईश्वर'' ''में 3:16), (1) मांस टिमोथी