Trinitarians द्वारा प्रयुक्त तर्क एक ट्रिनिटी साबित नहीं करते

“पुस्तक "निम्नलिखित अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया गया। अनुवादक Google Talk के माध्यम से हम यह नहीं है कि एक पूर्ण क्षमा अनुवाद हिंदी में मौलिक पुस्तक में अंग्रेजी”

 

 

Trinitarians द्वारा प्रयुक्त तर्क एक ट्रिनिटी साबित नहीं करते

Arguments used by Trinitarians do not prove  a Trinity

 

 

echad एलोहीम

हिब्रू उपाधियां और ईश् वर के लिए एक पृथक पुर्जों के तीन त्रिमूर्ति का समर्थन नहीं कर रहा है। एक दैवी आरोप है कि ईश्वर को सदा ही Trinitarians प्राय: तीन अलग अलग अलग व्यक्तियों के लिए एक शब्द का कारण है और दिव्य हिब्रू (echad) के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है जिनकी एकता की एक कड़ी के बजाय एक है। इस शब्द का अर्थ है, ''एक echad हिब्रू'' प्रकट होता है और लगभग 977 बार हिब्रू में हमेशा एक अर्थ में एक सख्त संख्यात्मक धर्मग्रंथों की भावना है। तथापि, केवल अंग्रेजी में एक शब्द का अर्थ ऐसा कर सकते हैं या किसी एक अकेले या अभिप्राय बहुवचन echad' शब्द का अर्थ को समझा जा सकता है या किसी एक आंकितमौसम एकता के एक है।

 

 

यदि एक ही तरीका है कि एकता के उद्देश्य से एक या तत्समय पढ़ने के लिए है या नहीं, विशेष रूप से एक अकेले या एक बहुसदस्यी शास्त्र के पारित हो जाने की मांग की। उदाहरण के एक बहुसदस्यी शब्द का अर्थ एक (2:24) echad गुस्से में पाया जाता है, जहां मनुष् य और महिला बोली जाती हैं।" के रूप में एक मात्र 2:24) की उत्पत्ति के रूप में अपनाना, जहां एक ग्रंथ पद्य में एकता का एक उद्देश्य यह है कि आज के संदर्भ में विशेष रूप से पता चलता है शास्त्र के पास

 

 

त्रिमूर्ति Apologist ग्रेगरी बॉयड अस्पताल में भतीऩ ने अपनी पुस्तक "नामक मूल्योंके संवर्धन और त्रिमूर्ति Pentecostals' (पेज 47, 48) है कि ''शब्द हिब्रू Elohim Echad'' और 'कमजोर तर्कों का समर्थन कर रहे हैं:- "... यह असामान्य नहीं पढ़े Trinitarian Trinitarians जिसकाकानूनी के सिद्धांत का पता लगाने के लिए त्रिमूर्ति के आधार पर यह तथ्य है कि ईश्वर शब्द है जो Elohim ओल्ड टेस्टामेंट' शब्द को परिलक्षित होता है।दुर्भाग्य से, यह वास्तव में बहुत रुचि … ने हिब्रू विद्वान मानते हैं, जिन पर तर्क के आधार पर एक कमजोर के सिद्धांत की त्रिमूर्ति है। जब कोई संख्यात्मक बहुलता से आशय है, इसी verbs के संदर्भ में बहुवचन होगा।

 

 

जब एक सच्चे ईश्वर को सौंपा गया है, तथापि, संगत verbs Elohim एकवचन में हमेशा एक शब्द का प्रयोग किया जा रहा है।… angelic जो एक स्वर्णिम बछड़े के साथ उलझी जैकब और Israelites पूजा की जाती थी। अत: यह आसान और सर्वोत्तम को समझने के लिए नये कामगारों के रूप में परिलक्षित होता है जब Elohim Yahweh महामहिम सम्राट की बहुलता होता है।'

 

 

'भी कमजोर है कि एक शब्द का तर्क हिब्रू (Echad) में प्रयुक्त दौरानआरम्भ ("सुनने ओ ने इसराइल की हमारे प्रभु भगवान का एक एकीकृत का उल्लेख नहीं किया गया था, में भगवान") एक बारबिहार … जांच से पता चलता है कि यह शब्द 'ओल्ड टेस्टामेंट उपयोग विभिन्न अर्थों में सक्षम है जैसा कि हमारे echad अंग्रेज़ी शब्द है। इस संदर्भ में यह निर्धारित करने के लिए कि क्या एक एकीकृत सुप् तावस् था.'' का अभिप्राय या तत्समय

 

 

कुछ Trinitarians भी तर्क दिया कि हिब्रू शब्द का प्रयोग सदैव yachid सख्त संख्यात्मक दृष्टि है। अत: यह तर्क दिया जाता है कि यदि एक ही यह पता चलता है कि वह चाहते थे कि ईश् वर की भावना से अपीलकरते हैं तो वह व् यक् तिगत आंकितमौसम शब्द का उपयोग के संबंध में एक yachid खुद के बजाय elohim या echad है। एक कडी के रूप में प्रयोग करने के लिए सदैव Yachid संख्यात्मक तथापि, इस शब्द का प्रयोग केवल एक अर्थ में कडे yachid बच्चे की भावनाएं व्यक्त करने के लिए, या अपने को अलग-थलग (22:16 की उत्पत्ति और एकांत में; 11:34, 16, 25:Psalm न्यायाधीशों को 68:7. 6:26); जर्मिया

 

 

ईश्वर की भावना और उनके पुत्र की भावना "हम उन्हें

''मैं अपने आवास में है, वह यह है कि उन्हें विशिष्ट आरोह-अवरोह रहता है और मुझे पसंद : मुझे पसंद है और वह प्यार किया जाएगा और मैं उनसे प्रेम, मेरे पिता और उसे स्वयं स्पष्ट है....। यदि कोई मनुष् य के प्रति प्रेम, मुझे वह मेरे शब्द: मेरे पिता और उसके प्रेम होगा और हम उन्हें प्रेरित करें, और 14:21 के साथ हमारे वासस्थान जॉन' (23),

 

 

''हम पढ़ने वाले Trinitarians अगर सियासी' और 'हमारा विचार है कि इस अध्याय 14:21-23 जॉन' में दो अलग-अलग नक्शे के शासनकाल में coequal तरीके दैवी व्यक्ति जब हम अभी पढा 14अध्याय जॉन समग्रता में हम यह पाते हैं स ९ ईसामसीह कहते हैं, ''उन्होंने मुझे देखा है कि नौ पद्य में देखा जा सकता है।'' के पिता और फिर पद्य सत्रह, ईसा ने अपनी 'सत् य' की भावना को ईश् वर के शिष्यों को भेजना है।

 

 

इसके साथ ही मुक्त छंद में यह कहना है मसीह, "...।लेकिन आप जानते हैं कि वह उसे सत्य] [की भावना के साथ निवास करता है, तो आप और आप में होगा। मॅँ आपको अनुमति नहीं होगी।" अत: मॅँ; comfortless ईसा की पहचान की जा रही अपनी व् यक् तिगत ईश् वर के साथ उसके पिता और भावना के अनुरूप सत् य है।

 

 

अभी तक कैसे कर सकते हैं कि शास्त्र के ये आयतें संकलित की पहचान देवता की भावना के साथ ईसा की देवता के साथ 14:23, जो ईश् वर के पिता जॉन राज्यों और ईसा के पिता और अपने शिष्यों को आगे आना होगा दोनों वासस्थान है? यहां हम देखने के बीच भेद स्पष्ट रूप से ईश्वर की भावना] [पिता और पुत्र [ईसा के मानवीय आत्मा]।

 

 

केवल यह यंत्रों के साथ harmonizes तर्कसंगत स्पष्टीकरण है कि ईश्वर पिता की नहीं है बल्कि यह आंकडा क्राइसट घर में वह एक बाह्य कवच मानव देह के पुत्र हैं। क्राइसट है और न ही किसी व्यक्ति की भावना घर में दैवी ईडवर दूसरे coeternal coequal और बाह्य कवच मानव देह के पुत्र हैं। केवल यह यंत्रों के सभी दस् ताना तर्कसंगत स्पष्टीकरण है कि आंकडों के सभी मनुष् य के व् यक् तिगत ईश् वर की संपूर्णता बनने जा रहा है ईश् वर का सार की जा रही न केवल विस्तार में भौतिक शरीर की भावना भी ईश्वर ईसा की भावना के साथ मानव बन जाएगा और आत्मा, मानव मन है।


 

अत: की घोषणा नहीं कर सकते हैं लेकिन जो ईश् वर में एक बाह्य कवच के मांस से प्रार्थना और जिन्होंने समिति के प्रलोभन में शैतान क्योंकि शास्त्र का कहना है कि यह प्रार्थना करते थे कि एक व्यक्ति के रूप में है और वह वास्तव में क्राइसट वास्तव में मानव के रूप में शैतान प्रलोभन था।

 

 

ईसा के बाद किया गया था, जैसा कि उन्होंने एक महिला की प्रार्थना करने की आवश्यकता है। यह प्रार्थना करते सभी मनुष्यों की आवश्यकता लेकिन मानवीय पहलू को अपना अस् तित् व नहीं था कि वे इस बात को कम करना भी पूरी तरह से ईश्वर को खासा होता है. जब वह ईश्वर को अपने मानवता को समाविष्ट किया गया एक व् यक् ति है।देवता अन्यथा, यह नहीं कहा जा सकता था कि किसी व्यक्ति को सभी! यही कारण है

 

 

कि वे अब राज्यों में 9-10 4:Ephesians : "क्या है, लेकिन वह भी 1427 में आजाद हिंद फौज का पहला के निचले हिस्सों की धरती? उन्होंने यह भी बताया कि 1427 तक ही है कि जहां तक कि वह इन सभी बातों के ऊपर आकाश भर है.''

 

 

इन सभी बातों से पहले ही ईश् वर की भावना भगवानराम किए पूलों (आकाश और पृथ् वी), इस शास्त्र के बारे में बोलते हुए कुछ अन् य देवता की जानी चाहिए कि थी। क्राइसट "किसी भी कर सकता हूं कि गुप्त जगह में छुपने उसे देखना नहीं होगा? कहते हैं। Yahweh मॅँ नहीं भरा आकाश और पृथ्वी? जर्मिया 23:24 का कहना है।" Yahweh

 

 

है क्योंकि ऐसा लगता है कि उस समय देवता मूर्तिपूजा ईसा की (ईश्वर) की भावना को एक भगवानराम को पहले ही नहीं भरे आकाश और पृथ्वी से पहले उनकी ascension Ephesians आकाश, 4:10 को बोलने की भावना है कि ईश्वर ने स्वयं मनुष्य के रूप में अपने सभी जगह जब वह मनुष्य के भीतर शुद्ध है। 4:Ephesians 9-10 नहीं किया जा सका क्योंकि उस व्यक्ति के बारे में बोलते हुए दूसरे दैवी आत्मा के एक कथित सर्वशक्तिमान ईश्वर नामक एक कथित coequal दैवी व्यक्ति अपने गुणों की हार नहीं किया जा सका और संयुक्त राष्ट्र के बिना, omniscience omnipotence omnipresence deifying (3:6) स्वयं-Malachi हमें यह यंत्रों के पश् चात् डेटा खो चुके हैं कि ईश्वर की भगवानराम पवित्र आत्मा नहीं रहा था जब उन्होंने अपनी जगह मौजूद] [omnipresence सभी जगह खुद को निर्दोष बच्चे की घोषणा की है।

 

 

अत:, जब मनुष् य (मानव) वह व्यक्ति बन ईश्वर को भी शामिल किया गया है।देवता को अपने बेटे को मानवता के यही वजह है कि राज्यों में 6:4 Galatians "... ईश् वर ने अपने पुत्र की भावना को निकल (मानव) की भावना को अपने दिल से रो, पिता ड़बे'

 

 

मानव की भावना का पुत्र नहीं हो सकता है क्योंकि केवल एक की भावना पैदा की जा angelic धर्मग्रंथों की पहचान करने की घोषणा के रूप में 5:20 / Micah (1) ईश् वर अर्थात् सर्वशक्तिमान 5:2) जॉन है। न केवल मानव की भावना पैदा किया गया था, जो मनुष्य के बेटे से कोई संबंध नहीं होगा क्योंकि ईश् वर की भावना को 'दे' (ईश् वर को अपना गौरव है जो 42:8) Isaiah नहीं व् याख् या की जा सकती है सभी के अनुकूल ही शास् त्र है कि ईश्वर की भावना है कि ईश्वर की घोषणा से हमें एक व् यक् ति के रूप में (1:23) रोए इसलिए जब मानव का समावेश किया गया है, वह ईश् वर की भावना को अपने देवता, जिसमें उन्होंने कभी भी पुरोहित भारतीयता के पूर्व के अवतार माना जाता है।

 

 

यह मानव की भावना के पुत्र का ईश् वर का शामिल किया गया है जो लोक देवता के निचले हिस्सों में आजाद हिंद फौज की धरती और फिर 1427 में हो सकता है कि वह "आकाश' की भावना भरने के सभी बातों का पुत्र नहीं है; वह ईश् वर की भावना भी शामिल है। intercession पुजारियों की भावना का मानव क्राइस्ट यही वजह है कि ''राज्य धर्मग्रंथों की भावना ही बनाता है।" हम intercession विविसंहिताएं में 8:26.

 

 

अत:, 'हम' और 'गीतांजलि' में 14:23 नहीं है।हमारा जॉन ने दो अलग-अलग coequal दैवीय आत्मा व्यक्तियों की तीन व्यक्ति हैं, बल्कि एक देवता की भावना को जोड़ा है, जो ईश् वर स् वयं मनुष् य की आत् मा अपने पुत्र की गर्भ में किया गया था कि मैरी है। अत: हमने दो व्यक्तियों की: ''एक ईश् वर और मनुष् य और ईश् वर के बीच मध्यस्थ एक आदमी, ईसा मसीह (2:5)" इस अभी टिमोथी 1 व्यक्ति भी है कि प्रत्येक व्यक्ति बन गया, जो ईश्वर शब्द "मनुष् य' दुरूह है। यह है कि यह यंत्रों के सभी डेटा को मान्य स्पष्टीकरण दस्ताना यदि नहीं, तो Ephesians 4:3-6 तथा कई अन्य ग्रंथ पद्य में जो कि ईश्वर की भावना ही साबित नहीं किया जा सका, सही नहींहै।

 

 

निश्चित रूप से ईश्वर चिंतन की कोई समस्या नहीं होना चाहिए Trinitarians पिता और पुत्र ईश्वर की जा रही दो व्यक्ति हैं। मूल्योंके संवर्धन धर्मशास्त्र का मानना है कि पिता और पुत्र के बीच कोई भेद नहीं बल्कि दो व्यक्तियों के रूप में उसी तरह कि Trinitarians करते हैं। धर्मशास् त्र का मानना है कि ईश् वर एक व्यक्ति और ईश् वर के मूल्योंके संवर्धन कि ईश् वर के पुत्र व् यक् ति एक व्यक्ति, जो ईश् वर के केवल 1:3.''एक्सप्रेस छवि (Hebrews स् वयं एक मनुष्य के रूप में है।

 

 

अत: हमने दो व्यक्तियों में से एक व्यक्ति को ईश् वर और मनुष् य के एक व्यबक्त:---- लेकिन यह है कि मनुष्य ईश्वर मनुष्य व्यक्ति जो व्यक्ति बन गया है। मुख्य समस्या यह है कि शिख्रण Trinitarian ईश्वर के रूप में तीन अलग अलग अलग coequal बांटती है और कुछ लोग भगवान coeternal; और शास्त्र कभी राज्य है।

 

 

इसलिए यह कहना सही है कि ''एक ईश्वर scripturally और ईश् वर और मनुष् य के बीच मध्यस्थ ईसा मसीह, मनुष्य (1) 5. 2:टिमोथी' है लेकिन यह सही नहीं है कि राज्य के तीन अलग-अलग scripturally coequal और सुस्पष्ट है और दिव्य आत्मा coeternal व्यक्तियों के देवता है। कॉल्स के लिए 1:3 Hebrews क्राइसट "एक्सप्रेस की छवि अपने [Setup] ईश् वर से अदृश्य हो, ईसा''दिखाई है [ईश्वर पिता की छवि अदृश्य]" था कि हम हमेशा यह सुनिश्चित करने के लिए एक व् यक् ति (1:15) Colossians

 

 

जैसा कि पहले ही पूरी तरह से ईश् वर और मनुष् य की आत् मा की घोषणा की है ताकि ईसा की भावना से किया गया था कि वह ईश्वर और मनुष्य की पूरी तरह से दोनों शिष्यों और ईसा की भावना है। यह इस बात को कैसे ईसाईयों की भावना से रो ''ड़बे दिलों में ईश् वर का पुत्र पिता।' हालांकि इस outpouring के पवित्र आत्मा के समावेश के मानव की भावना उत्पन्न हुई थी उनके पुत्र नहीं हो सकता जब तक कि प्रथम के निचले हिस्सों की घोषणा की और फिर से उठ Hades है कि वह इन सभी बातों से भरें।" "मृत यही शिष्यों के साथ भरे जाने तक इंतजार करना पड़ा पवित्र आत्मा पर एक और दो अध्यायों अधिनियमों Pentecost ()। जब "ईश् वर की भावना से हमारे लिए intercession बनाती है।" हम जानते हैं कि यह एक तिहाई दिव् य व् यक् ति प्रार्थना की पहली दैवी व्यक्ति है। ईश् वर के लिए मनुष्य ही नहीं, अल्लाह से दुआ करते हैं।

 

 

जब की भावना से भरे होते हैं जो संव र्धित intercession बनाती के पवित्र आत्मा है, जो अपने पुत्र की भावना के तत्व से विहीन मानव के लिए intercedes अभी भी अपने पुत्र की भावना है कि मानव लीला के देवता की भावना से स्वयं को बचाने के लिए अमेरिका से हमारे मानव गुण रहा है। गुनाहों संव र्धित ईसाई बहुमत दूसरी शती में बुलाया गया था क्योंकि वे Monarchians Modalistic भगवानराम को विश्वास है कि ईश्वर पिता की भावना से कार्य कर सकता है या यातायात के विभिन्न साधनों के रूप में उनकी उपस्थिति का समावेश मिलता है और प्रसर्जन हेतु अपेक्षाओं में पवित्र आत्मा का पुत्र था जबकि शेष अवतार में एक बहुत [शासक]। यह केवल एक ही तर्कसंगत स्पष्टीकरण दिया है कि यह यंत्रों के सभी डेटा फिट है हालांकि यह अत्यंत भ्रमित करने के लिए असीम मन को पूरी तरह से समझने है।


 

के अवतरणों के अध्याय 5:5 रहस्योद्घाटन मेमना 6-9 "... के बीच...गद्दी पर खडे एक मेमना के रूप में की गई थी, सींग और सात आंखें...सात मृत और वे तथा ने पुस्तक के अधिकार का हाथ था कि वह राजसिंहासन...बैठे थे। नई गीत गाया है और वे कह सकते हैं, योग्य को खोलने के लिए, और तत्संबंधी मुहरों बुक आप को हमें ईश्वर को अपने द्वारा पूरा ९र लियाजाये धरों में हैं और

 

 

यहां भगवान से केवल एक बार फिर हम रक्त..." पर एक व् यक् ति और सिंहासन व्यक्ति ने जो व्यक्ति बैठे व्यक्ति ईश्वर से बैठाने की पुस्तक ''शब्दों के प्रयोग को नोट किया गया था, क्योंकि यह एक मेमना धरों में सात सींग और सात आंखें।" इस दृष्टि से नहीं बोलता है लेकिन यह बात स् थान-प्र तीक के देवता की सहास्त्राब्दि मानवता को मेमना ईश्वर का है। हमने एक ईश् वर और मनुष् य में एक Wherefore के पारित होने के दो व्यक्तियों में से एक व्यक्ति को ईश् वर नहीं : शास्त्र और एक व्यक्ति व्यक्ति है। यह सूचना भी एक व् यक् ति'', ''हमें एक व्यक्ति को पूरा ९र लियाजाये।" "ईश्वर व्यक्ति है। इसका यह मतलब नहीं कि हम एक दूसरे दैवी व्यक्ति जिसे ईश् वर कहलाता है और दिव्य पहले व्यक्ति को पूरा ९र लियाजाये अत:, यह स्पष्ट भेद ईसा की मानवता और ईश् वर के बंधन से मुक् त है।

 

 

इस ग्रंथ के पारित होने के संकेत भी हड़ताल करने के देवता ईसा मसीह में ईश् वर की है। शब्दकोश में ग्रीक Arnt Gingrich राज्यों द्वारा कुंज, और ''के बीच में राजगद्दी' का अर्थ है, ''केंद्र की गद्दी पर बैठा।" अत: मेमना स्थित है जो स्पष्ट रूप से ईश्वर की गद्दी पर केंद्र के रूप में अपनी पहचान करने के लिए एक सही ईश्वर को पकडा जो व् यक् ति बन गया है।

 

 

अवतरणों 22:3-4 भी सिद्ध होता है कि वे ईश्वर के देवता की: ''और ईसा मसीह मनुष्य में नहीं होगी। लेकिन उसके ईश् वर और अधिक अभिशाप: मेमना में होगा और उसके कर्मचारियों कीसेवा करेगा; (नहीं हैं और उन्हें उनके चेहरे देख) :; और उनके नाम में होगा।'

 

 

इस ग्रंथ की सूचना अपने ललाट राज्य नहीं है, "ईश् वर और सिंहासन मेमना' है और न ही राज्य में 'गद्दी ईश्वर और की गद्दी पर मेमना'' था तो दो दिखाई देता है। सिंहासनों न तो यह है कि हम एक से अधिक है। यह केवल एक ही हम देखेगें कि राज्यों ----- ''।" अत: उनका चेहरा सामना केवल एक ही व्यक्ति के माध्यम से देखा जा सकता है, जो ईश् वर कहलाता है जो पूर्ण रूप से ईश्वर मनुष्य और मनुष्य को पूरी तरह से ईसा मसीह रक्षा दोनों!

 

 

यह यंत्रों तथ्य सच

है: एक ही अदृश्य ईश्वर पर बैठाकर एक सिंहासन!

तथ्य यह है कि केंद्र पर मेमना क्राइसट: सिंहासन!

वास्तव में हम देख ही: मुख-मसीह!

वास्तव में एक नाम केवल : हम देखते हैं कि उनके नाम-ललाट!

इस तथ्य की जा रही है, जो ईश् वर और मनुष् य की घोषणा की है।] [मेमना दोनों!

निष्कर्ष: प्रभु ईसा मसीह रक्षा दोनों ईश्वर और मेमना!

 

 

हमें

'ईश् वर और मनुष् य की उत्पत्ति 1:26,27 ने कहा कि हमें हमारी छवि में मनुष्य और उसके बाद हमारे तो वैसी ही है....। अत: ईश्वर मनुष्य अपनी छवि में सृजित की छवि में उन्होंने उसे ईश्वर का सृजन होगा..." Trinitarians हमें विश्वास है कि ईश् वर ने दो अन्य व्यक्ति एक पवित्र व्यक्तियों को इस कविता का अर्थ यह है कि यह सूचना दिव् य पूरे होने ईश् वर ने कहा, "हमें मनुष्य ईश्वर के दो अन्य व्यक्तियों को जोड़ते हैं, तो हम एक दैवी ईश्वर दिव्य में बोली जाने वाली व्यक्ति को जोड़ने में स्पष्ट रूप से हम शास्त्र ईश्वर का समर्थन करने के लिए हमारी पूर्व-अपेक्षा धर्मशास्त्रों अटकलें लगाई जा रही हैं।

 

 

तत्पश्चात्, जो ईश्वर को संबोधित करते हुए कहा, "जब वह हमें इस ग्रंथ की व् याख् या के पारंपरिक?'' मनुष्य यहूदी है कि ईश्वर के साथ उनकी देवताओं का प्रबंधनऔर था (जो भी उनकी छवि) जब उन्होंने कहा, "हमें मनुष्य के पिता अपनी पत्नी और बच्चों के लिए एक परिवार कह सकते हैं, ''हम क्यों नहीं करते हैं, ''हमें खत्ता बनकर रह'', या फिर अपने परिवार के साथ सेवियों के बाद गैराज', मौत हो जाती है और यह कि गैराज ----- ''केवल खत्ता बनकर रह गई है या आगे बढ़ायेगा'' और ''स्वयं ईश्वर पिता ने कहा जा सकता है।'' इसी को मेजबान angelic, ''हमें मनुष्य के साथ उसके बाद वह देवताओं का प्रबंधनऔर सृजित द्वारा मनुष् य अपने रचनात्मक शक्ति है।

 

 

शास् त्र साबित होता है कि ईश्वर प्रदत्त बार-बार अपने निर्णय लेने से पहले देवताओं जब उन्होंने बारंबार उपयोग बहुवचन pronouns Yahweh ईश्वर के साथ उनकी देवताओं:

 

 

''... 1-8:6 Isaiah मैंने देखा कि एक बैठक में भगवान सिंहासन, उच्च और हटा लिया है और उनकी ट्रेन भर मंदिर है। ऊपर खड़ी seraphims....। और एक-दूसरे को बिगाड़े दिया और कहा कि पवित्र, पुण् य और पवित्र है; मेजबान की Yahweh धरती भरी बांटता है....। मॅँ यह भी कहना है कि भगवान की आवाज सुनी, जिसे मैं भेजने के लिए, जो हमारे लिए जाएंगे? ..."

 

 

से लगातार हैं देवताओं की उपस्थिति में यह आशा करना उचित होगा कि ईश् वर की नियमित रूप से बोलते हैं। जब ईश्वर ने कहा - 'हमारे लिए जाएंगे जो उन्होंने अपने भाषण को'', क्योंकि यह केवल एक तिहाई देवताओं का कोई अर्थ नहीं है कि वह ईश् वर के दो अन्य लोगों से बात कर रहा है जो दैवी 1:26, ''राज्यों की उत्पत्ति के लिए स्पष्ट रूप से कहा कि यह स्पष्ट रूप से स्पष्ट है कि ईश् वर और..." पूरे व्यबक्त के इन शब्दों में किया जा रहा है और दिव्य बातचीत की शुरूआत में संसार की सृष्टि की बजाय एक दैवी व्यक्ति को दो अन्य व्यक्तियों, दैवी इसके अतिरिक्त, हिब्रू जी-हजूरी करते फिरते और उपदेशकों ने कभी एक से अधिक दैवी व्यक्ति या उनके इशारोन पर नाचने वाला आकाश में किया जा रहा है।

 

 

उदाहरण के लिए 'विज़न एशिया' में केवल एक ही देखा Isaiah भगवान "बैठक से गद्दी' (1-8):6 Isaiah Isaiah के बारे में कुछ भी नहीं कहा, ''एक बैठक में दो अन्य व्यक्तियों के साथ देवत्व की गद्दी पर बैठा।" अत: में केवल एक दैवी व्यक्ति बोलते बाइबल बोलता है स्वर्ग में से केवल एक राजशबक्त इससे साबित होता है कि ईश्वर के साथ उनकी प्रदान करता 1 राजा के समक्ष देवताओं '20-23 21:1: निर्णय लेने और Yahweh राजाओं ने कहा है कि वे गैर-मौजूदगी मुद्दा ही खत्म हो सकता है, जो इस बात के लिए राजी करने में गिरावट और Ramothgilead? इस प्रकार, एक ने कहा कि तरीके से और दूसरा निकल आये और भावना के सामने खड़ा है और कहा है, मॅँ उससे सहमत Yahweh....।"

 

 

हम जानते हैं कि उनके पास से यह कहता रहा है जो कभी कभी Yahweh शास्त्र angelic अपनी राजगद्दी अपने इनपुट और सलाह सराउंड साउंड मेजबान की हैसियत से पहले निर्णय है। हम यह भी जानते हैं कि ईश्वर की गद्दी पर लगभग लगातार देवताओं की पवित्र दिन और रात (4:8) प्रकटीकरण इसलिए Yahweh ईश्वर के साथ उनकी देवताओं की संभावना प्रदान करने से पहले ही निर्णय राजा से सलाह माँगिए बडे अधिकारियों से उनकी सांसारिक कभी-कभी, जहां उनके पतों Trinitarians मागोऩ के प्रयोग को सिद्ध करने के लिए प्रयास करने के लिए ईश्वर शास्त्र देवदूतों Trinitarianism है। अभी साफ पता चलता है कि ईश्वर को अपने भाषण में उन् हें बाइबल देवताओं का है।

 

 

उत्पत्ति 3:22-24 "तब Yahweh ईश्वर ने कहा, "अंतर्विष् ट व् यक् ति के रूप में हो रहा है, हम इस बुराई को जानते हैं। और अब वह अपने हाथ में ले वरना भी वृक्ष की जिंदगी, ताकि वह हमेशा रहते हैं, और खाने के लिए" … को खदेड दिया और वह आदमी cherubim के पूर्व में रखा गया और जल ड़ालेंगी, उद्यान ईडन गार्डन्स पर रक्षा के लिए हर तरह से चालू तलवार से वृक्ष के जीवन का कोई उल्लेख नहीं किया गया है कि ईश्वर की सूचना'' को बोलते समय बीतने के दो अन्य व्यक्तियों को इस दैवी ईश् वर का उल्लेख करता है, लेकिन उसका तत्काल शास्त्र 'मनुष्य angelic।" अत: ऐसा प्रतीत होता है कि वह देवताओं cherubims ईश्वर को संबोधित किया जा रहा था जब मनुष्य ईश्वर ने कहा है कि "हम एक जैसी बन गया है.''

 

 

की घोषणा ने कहा था कि ''मोक्ष का यहूदी' और समझा जाता है कि ईश्वर को अपने यहां यहूदियों ने हमेशा जब वह देवताओं 'हमें' शब्द का उपयोग में है। जी-हजूरी करते फिरते थे और वे कभी भी शामिल यहूदी और ईसा की शाबाशी यहूदियों के प्रयास में उनकी आस्था सख्त हठीले है। इसलिए, इस शब् द का उपयोग किया जाना चाहिए।'' ''देवताओं का जिक्र करते हुए। 7:11) की उत्पत्ति को "आइये, कम और उनके confound उनकी भाषा समझ नहीं है कि वे एक दूसरे के भाषण दिया। इसलिए उन्हें विदेशों में फैली Yahweh..."

 

 

शब्दों ''एक एक्सप्रेस' को 'महा दिवस' के आदेश को कम हो जायेंगे। यदि इन शब् दों से बात दो अन्य व्यक्तियों को फिर से एक व्यक्ति को कैसे ईश्वरीय coequal दिव् य देवता की कमान के दो अन्य व्यक्तियों को यदि सभी तीनों दैवी कथित रूप से ईश्वर माने जाते हैं?

 

 

शास् त्र, अर्थात् सर्वशक्तिमान ईश्वर के अनुसार नहीं हो सकी है तो वह सचमुच एक ईडवर को सुनना और सबमिट करने के लिए एक उच्च शक्ति से भिन्न है। ईश् वर के दो अन्य लोगों की अपेक्षा इसलिए कमांडिंग "ईश्वर के नीचे," "देवताओं को कम करने के लिए अपनी कमांडिंग confound भाषा यदि खुदा ने अपने देवताओं का वास्तविक सृजन कार्यक्रम में शामिल करने के लिए चुन सकते हैं उनकी देवताओं का प्रयोग मनुष्य किसी अभिभूत रचनाकार ने तो उन्होंने स्वयं कहा जा सकता है कि मनुष् य के लिए एकमात्र सृष्टिकर्ता के सभी बातें हैं। हिब्रू में मूल रूप से अनूदित शब्द "तथा'' (asah = किसी अभिभूत रचनाकार ने) सृजित' (दो अलग-अलग अर्थ है) सृजित = बड़ धरती पर पैदा कर दिया गया था (ईश् वर) से पहले 'बनाने में शामिल हो गया देवताओं' (asah-किसी अभिभूत रचनाकार ने पहले ही था कि धरती से मनुष्य) बना हुआ है।

 

 

इसलिए यदि वास्तव में भाग लिया और देवताओं, मानवता की किसी अभिभूत रचनाकार ने कहा जा सकता ईश्वर Yahweh मूलत: ''धरती के स्वर्ग के सृजन और स् वयं ही' और इस प्रकार का कहना है, ''आपने बनाया है, जो आपके सीढियां उतरकर Yahweh गर्भ से कहा, "मैं Yahweh, जिन्होंने सभी बातों को, जो बाहर खींच ही स्वर्ग, जो पृथ् वी पर फैल गया हूं।" से

यद्यपि यह असंभव नहीं है कि वास्तव में भाग लिया और मानवता के सृजन देवताओं का अर्थ होता है कि ईश्वर ने उनके साथ थे और उन्हें अनुमति प्रदान करने में लगे कि वह यह क्या कर रहे हैं।

 

 

कुछ रूढि़यों शास्त्र के कई रास्तों से पता चलता है कि ईश्वर के बारे में सब कुछ ठीक नहीं है कि वह अपने देवताओं को शामिल करता है। अत: यह मानते हैं कि ईश्वर को अपने देवताओं को तर्कसंगत रूप से बातचीत में मौजूद थे जिन्होंने अपने स्वर्गिक न्यायालय, जब उन्होंने कहा, "हमें मनुष्य में हमारी छवि है....।

 

 

" "ईश्वर के सृजन के आरंभ का कहना है कि ये बातें सुविधाएं, निष्ठा और सच तो गवाहों के आरंभ के सृजन के रहस्योद्घाटन ईश्वर है।" 3:14 कुछ Trinitarians ने आरोप लगाया है कि रहस्योद्घाटन 3:14 का समर्थन करता है, क्योंकि यह एक व्यक्ति को स्पष्ट रूप से आगे भड़काने trinitarianism जिसस ने शुरूआत की है। अभी तक कैसे ईश् वर की शुरूआत की और भी एक ईश्वर सदा पथरीली? मेरा ख् याल है कि यह मानना Trinitarianism eternality पुत्र का समर्थन नहीं कर सकी अत: इस शास्त्र Trinitarian धर्मशास्त्र है। इसी प्रकार, यह भी कहा जाता है कि प्रत्येक जीव में क्राइसट firstborn Colossians 1:15 :

"जो अदृश्य की छवि को ईश् वर, firstborn के प्रत्येक जीव के लिए उनके द्वारा बनाया गया है, जो कि सभी बातें हैं कि पृथ् वी और आकाश में और अदृश् य हो, चाहे वे सिंहासन, या राज दरबार, या राज् य या शक्तियां : सभी बातों को उनके द्वारा बनाया गया है और इन सभी बातों से पहले उनके लिए: है और उन्हें और उनके द्वारा सभी चीजें शामिल हैं....। उसके पिता के लिए यह नोट करते हुए प्रसन्न है कि सभी सेक मुवयसमस्याओं..."

 

 

"कहा जा सकता है कि 15-19 1:Colossians क्राइसट ईश्वर के सृजन की शुरुआत' है और 'firstborn के प्रत्येक जीव' और भी ईश्वर है? हमें विश्वास है कि ईश्वर पिता के पहले और बाद में अपना पहला प्रयोग वस्तुत: सृजित की घोषणा के सृजन के लिए सब कुछ तो? यदि ऐसा है तो यह कहकर Jehovah साक्षियों के अधिकार की घोषणा नहीं की जा सकी क्योंकि वह ईश् वर के सृजन की शुरूआत "[एक जा रहा था कि धरती पर पैदा होने से पहले]।

 

 

" यह relegate मसीह को पैदा किया जा रहा है। angelic ससीम मानव मन को यह प्रतीत होता है कि ईश्वर दैहिक कह रहे हैं। अभी तक इस मानव व्याख्या आजअमरीका जिस का कहना है कि ईश्वर Yahweh बाइबल के कई धर्मग्रंथों में सब कुछ स्वयं ही पैदा करके और

इस प्रकार का कहना है, ''आपके Yahweh सीढियां उतरकर वह है कि आप मु३ो YAHWEH गर्भ से बनाई गई है कि इन सभी बातों की ओर फैलता है; केवल स्वर्ग निकल सीवेजसंग्रहण; विदेशों को पृथ्वी हूं।"

हम जानते हैं कि ईश्वर को धर्मग्रंथों की पहचान करने की घोषणा की है, '''' और ''9:6.'' (Isaiah शाघवत पिता कौन है, ''एक्सप्रेस की छवि अपने पिता की] [Hebrews व्यक्ति (1:3 है।" अत:, देवता) KJV मसीह को अनंत में था कि स् वयं ईश् वर है।

 

 

इसलिए क्राइस् ट किया जाना चाहिए, जैसा कि ईश् वर के सृजन के प्रारंभ के धर्मग्रंथों की पहचान करने और उन्हें "विश्व के आधार से बरामदकिए गए मेमना (रहस्योद्घाटन 13:8.'' की घोषणा से नहीं था, ईश् वर संसार की सृष्टि से घनिष्ठतापूर्वक धरों अवश्य विचार और भविष्य के बारे में बोलते हुए उन्होंने पहले पुत्र का खिलौना शाब्दिक 07. इसी प्रकार, ईसा की शुरूआत "कहा जा सकता है क्योंकि ईश् वर की रचना' में उनकी foreknowledge को बचाने के लिए विश्व का निर्णय लिया था और ईसा मसीह को दुनिया के सामने के माध्यम से सृजित किया गया है। वस्तुत: अत:, उनके पुत्र के साथ हर चीज पैदा ईश्वर किरदार में रखनाचाहिए। अत:, विश्व ईश्वर ने उसे शासन के माध्यम से ''नामंजूर कर दी गयी और ईसा'' ''बनाया जाएगा।

 

 

'' के रूप में एक महिला की अपनी छवि दिखाई ही अदृश्य भावना 3:14, Wherefore रहस्योद्घाटन सिद्ध होता है, लेकिन दोनों disproves धर्मशास्त्र मूल्योंके संवर्धन और Trinitarian एरियन धर्मशास्त्र प्रारंभ से ही, संसार की पहली ईश्वर Yahweh विचार कीशुरुआत की इस भावना की छवि को साफ करें] [अदृश्य गैर-तदर्थउपायों से पहले उन्हें अपने बेटे को वास्तव में भविष्य में बिंदु है। अत: ''ईसा' का सृजन के प्रारंभ में ही रहता है, विचारों, ईश् वर और ईश् वर की योजना बनाई गई है कि उन्हें सब है। यदि किसी अन् य व् याख् या फिर वे Trinitarians पर जोर भूरि भूरि वास्तव में पूरी तरह से नहीं हो रहा है कि भगवान ईश्वर है।

 

 

अभी यह कैसे हो रहा है कि ईश्वर ने अपने पुत्र के माध्यम से सब कुछ Hebrews (1:2)? हालांकि इस खिताब को पुत्र अपने पिता के सभी पद सृजित incarnational, ईश् वर और उसके शब्द के माध्यम से बातें सामग्री के विचार शामिल शब्द ईश्वर की छवि या आध्यात्मिक (पूर्व) जो अंतत: अपने पुत्र के अवतार (1:5) Hebrews बन जाहिर है कि ईश्वर का उपयोग गैर-ठोस] [अदृश्य उनकी छवि बनाने की भावना पैदा करने के लिए [Setup] संसार और खुद को उजागर करने के लिए 6:1) देवताओं और उपदेशकों (Isaiah अवतार के पूर्व, ईश् वर के शब्द ने खुद को प्रत्यक्ष या आध् यात् मिक Theophanies छवि [Setup] [शब्द का समय आ गया है, लेकिन बाद में मांस और विस्तार से हमारे बीच आध्यात्मिक छवि] बने एक मनुष्य के रूप में है। इसलिए कि वे ईश्वर के साथ हर चीज पैदा foreknowledge अंतत: हमारे जैसे मानव को बचाने के लिए आने वाले व्यक्ति ईसा मसीह रक्षा कहते हैं।

 

 

अत: ''ईसा के प्रारंभ में ही ईश्वर का सृजन' की भावना है कि वह "विश्व के समख्र नामंजूर कर दी गयी और नींव है।' 'जो सचमुच] [ईसा पूर्व नामंजूर कर दी गयी थी, लेकिन दुनिया की नींव पिछले बार साफ है.''

नामंजूर कर दी गयी है जिसका अर्थ है 'PROGINOSKO अनुवाद यूनानी शब्द का पता कर लीजिए, या ईश्वर जानते हैं, तो इसका अध्ययनकरना FOREKNOW' या FOREKNEW अपने पुत्र के अस्तित्व का पुत्र कैसे कहा जा के समय ईश् वर को अगले मौजूद शाब्दिक नामंजूर कर दी गयी है? अन्यथा, भाषा की जा रही है।' 'नामंजूर कर दी गयी है। अत: की घोषणा की गई थी (ईश् वर के सृजन के प्रारंभ से पूर्व विश्व में वास्तव में सृजित) और दिमाग में ईश् वर के माध्यम से ईश्वर की योजना की क्षमता को अंतत: वह forecreate foreknow और ईसा के माध्यम से करते हैं।

 

 

यह तभी संभव है जो व् याख् या सौहार्द को सभी शास् त्र; अन्यथा क्राइसट सृजित होगी जो ईश्वर का पूर्ण नहीं किया जा सका. मांस में परिलक्षित

तर्कसंगत स्पष्टीकरण Trinitarians नहीं जा सकता' की शुरूआत किस प्रकार सेसोचता क्राइसट ईश् वर का सृजन किया जाए क्योंकि अभी भी' है और यह बता सकते धर्मशास्त्र मूल्योंके संवर्धन बहानों कठिन समय बीतने के ग्रंथ हैं।

 

 

केवल 3:14 अन्य तर्कसंगत व्याख्या के रहस्योद्घाटन के विरुद्ध खडे नहीं बल्कि उनकी व्याख्या के Jehovah गवाहों के सभी शास् त्र साबित हो रहा है कि ईश्वर न्यौछावर अत: यदि हम मानते हैं कि ईश्वर ईडवर हमें विश्वास में हड़ताल करने के बजाय Trinitarian धर्मशास्त्र ब्रह्यविद्या

ईश्वर पिता और प्रभु ईसा मसीह रक्षा के कई पॉल प्लेटोवाद खुले शब्दों ''जैसे ईश्वर से हमारे प्रभु ईसा मसीह रक्षा, पिता और (1)" Trinitarians की कॉरिनथियंस पॉलिस्टा टीमें भाग 1:3 का तर्क है कि पिता और पुत्र के बीच भेद सिद्ध होता है कि कम से कम दो अलग-अलग नाम हैं जो दैवी व्यक्तियों और coequally coeternally ईश्वर है। अभी भी हैं, ''यह किस तरह सावधान पॉल कभी ईश्वर से हमारे पिता और ईश् वर से हमारे प्रभु ईसा मसीह रक्षा की।'

 

 

'हमारी ईश्वर से कभी नहीं है और न ही पॉल लिखते हैं, पिता और पुत्र को ईश्वर से हमारे प्रभु ईसा मसीह रक्षा करेंगे।' इस मु ईॊ पर बोलते हुए दो देवताओं पॉल का किस तरह बहुत सावधान नहीं बोलने के लिए ईश्वर के पुत्र अपने पिता के साथ उसी पंक्ति में ईश् वर न ही किसी धर्मदूत कभी ईश्वर से कहते हैं, पिता और से हमारे प्रभु ईसा मसीह रक्षा, और पवित्र आत्मा' है क्योंकि यह एक पवित्र आत्मा परमात्मा की भावना का पिता इसलिए केवल दो विशेषताओं के व्यक्तियों में से एक व्यक्ति को ईश् वर और मनुष् य के एक व्यबक्त शास्त्र :- लेकिन यह है कि मनुष्य ईश्वर मनुष्य व्यक्ति जो व्यक्ति बन गया व्यक्ति (Immanuel - ईश्वर से हमें एक व् यक् ति के रूप में व्यक्ति)।

 

 

को धर्मग्रंथों लगातार यह दर्शाते हैं कि वहां केवल एक "ईश् वर और मनुष् य के बीच मध्यस्थ की भूमिका में एक और ईसा मसीह, मनुष्य (1) 5. 2:टिमोथी' कहते हैं, ''यहां हम देखते हैं कि ईश्वर पिता' लेकिन कभी बाइबल बार-बार "ईश् वर के पवित्र आत्मा' या 'पुत्र' मूल्योंके संवर्धन श्रवणों को विश्वास है कि पुत्र और पवित्र साधनों की भावना को भी एक वजह है लेकिन सच ईश्वर शब्द का कहना है, ''ईश् वर का सावधानी से कभी ईश्वर के पवित्र आत्मा' या 'पुत्र''

 

 

, "मुझे थोड़ा Yahweh यहसिर्फ ज्ञान के प्रारंभ में उनके अपने कार्यों के सामने पुराने हैं। मॅँ इन सभीको से स्थापित किया गया है, प्रारंभ से ही, या कभी धरती' स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले 8:

8:स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले कुछ 22,23 Trinitarian होने वाले स्वयंस्फूर्त उत्परिवर्तनों का आरोप है कि उनको समुचित रूप सेकार्यान्वित किया गया था कि इससे साबित होता है कि किसी व्यक्ति के तीन व्यबक्त देवता स् वातंत्र्य सदा दैवी coequal अनंतकाल से है।

 

 

अभी तक कैसे कर सकते है अगर वह ईश् वर कहलाता है।सही मायने में दैवी coequal व्यबक्त ने कहा, "द्वारा" "एक दूसरे दैवी व्यक्ति के पास जाना चाहेंगे? 'मेरे पास Yahweh इस आयत किस तरह का कहना है कि ऐसा नहीं है।' 'Yahweh (ईश् वर) का कहना है कि ''नामक व्यक्ति के पास एक दूसरे दैवी Yahweh?'' ईश् वर है जो किसी अन्य द्वारा स्थापित द्वाराधारण और ईश् वर का सही नहीं कहा जा सकता.

 

 

इसके अतिरिक्त, यदि ग्राम्य कहावतों अध्याय 8 है तो दूसरे दैवी व्यक्ति के बारे में बोलते हुए कहा, ''ठीक था जब इस कथित दैवी व्यक्ति ईश्वर की स्थापना" के दो अन्य पवित्र है? यदि किसी व् यक्ति विशेष में स्थापित किया गया था जो दैवी कथित अंक है तो उस समय के तथाकथित दैवी व्यक्ति नहीं कहा जा सकता है, सभी व्यक्ति दैवी ईडवर ऐक् य सदा कहा जाता है कि जो व्यक्ति के लिए एक कथित दिव् य द्वारा स्थापित एक दूसरे दैवी व्यक्ति को यह साबित करना है जो उसे बेहतर है कि एक स्थापना की स्थापना की जा रही है। अत: इस कथित दूसरी दैवी व्यक्ति को नीचा स् थापित किया गया होगा दो अन्य सदस्यों का कथित दिव् त्रिमूर्ति है। इसलिए यदि स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले अध्याय 8 बोल रहा हो तो वह ईश् वर के पुत्र के रूप में ईसा के बारे में नहीं किया जा सकता या सह-सह-समान शाश्वत् ईश्वर के साथ पिता और अन्य के साथ कथित तीसरे दैवी व्यक्ति को पवित्र आत्मा है।

 

 

8:3 स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले भी बोलता है। वह एक ज्ञान को बुलाने का ज्ञान और यहसिर्फ "वह शहर के प्रवेश द्वार पर रोने पर, में आने के दरवाजे पर'' नहीं है कि ईश्वर की एक कविता में वे बाइबल कॉल्स करें! अत: यह ै९से के पारित होने के बजाय वह शास्त्र के बारे में एक मसीह? उन्होंने



स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले 8:12, ''मैं ज्ञान पासविशेषाधिकार के साथ काम करने की सलाह देते दिखते हैं और यह पता लगाने का ज्ञान है।' 'मैं ज्ञान पासविशेषाधिकार के साथ व्यंग्यपूर्ण आविष्कारों से काम करने की सलाह देते दिखते हैं।'' पर एक दूसरे दैवी व्यक्ति के ज्ञान Trinitarians कॉल करना चाहते हैं तो हम उस व्यक्ति को तीन व्यबक्त और एक दूसरे दैवी राजसहायतादेने कॉल देवता की चौथी सदस्य को कथित त्रिमूर्ति जोड़ें? 8:22, स्वास्थ्य कार्यकर्ता अक्सर पहले Wherefore का उल्लेख नहीं किया जा सका, ईश् वर के अलावा किसी व्यक्ति के पिता को सदा दैवी नदारदहैं।

Please reload

C O N T A C T

© 2016 | GLOBAL IMPACT MINISTRIES